मंगलवार, 1 जनवरी 2013

शासन,धन,ऐश्वर्य,बुद्धि मे शुद्ध-भाव फैलावे---विजय राजबली माथुर

अन्न,भूमि,गिरि,भानु,दिशाएँ,मेघ शुभंकर होवें। 

शांति-स्नेह,संतोष सुहावे,कलह-कालिमा धोवे। । 


पवन,प्रकाश,चंद्र,रवि भू पर दुख संताप नसावें। 

दिवस,प्रमोद-पूर्ण रजनी भी सुख-सौन्दर्य बढ़ावे। । 


(ऋग,मण्डल-7/सूक्त-35/मंत्र-3 एवं 4 )


निर्भय होकर पशु प्राणी जगती मे हर्ष मनावें। 

कर्म योनि को पाकर मानव निज कर्तव्य निभावें। ।


(यजु,अध्याय-36/मंत्र-8)


समस्त संसार के समस्त प्राणियों को वर्ष 2013 शुभ एवं मंगलमय हो

Link to this post-



2 टिप्‍पणियां:

  1. .सार्थक अभिव्यक्ति आपको सहपरिवार नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ !शुभकामना देती ”शालिनी”मंगलकारी हो जन जन को .-2013

    उत्तर देंहटाएं
  2. नया साल आपको व आप के परिवार में सभी को शुभ और मंगलमय हो.

    उत्तर देंहटाएं

ढोंग-पाखंड को बढ़ावा देने वाली और अवैज्ञानिक तथा बेनामी टिप्पणियों के प्राप्त होने के कारण इस ब्लॉग पर मोडरेशन सक्षम कर दिया गया है.असुविधा के लिए खेद है.

+Get Now!